Spread the love

मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है

राज्य में लगातार बढ़ते हुए धान के क्षेत्र से प्रत्येक वर्ष लगभग 1.0 मीटर भू-जल स्तर में गिरावट आ रही है। हमारी आने वाली पीढियों के लिए पानी बचाने हेतु सरकार ने 1.00 लाख हैक्टेयर भूमि में मक्का / कपास / बाजरा / दलहन / बागवानी की फसलो से विविधीकरण हेतु ‘मेरा पानी मेरी विरासत‘ योजना की शुरूवात की है। किसानो को राज्य के 8 खण्डो (रतिया, सिरसा, सीवन, गुहला, पीपली, ईस्माइलाबाद, बबैन तथा शाहाबाद) में धान के पिछले वर्ष के क्षेत्र में कम-से-कम 50 प्रतिशत क्षेत्र में वैक्लपिक फसलो (मक्का / कपास / बाजरा / दलहन / बागवानी) को उगाकर विविधीकरण अपनाना होगा। उपर्युक्त योजना के माध्यम से फसल विविधीकरण का उददेशय टिकाऊ खेती के साथ-2 नवीनतम तकनीको को बढावा देना, उत्पादन बढाना तथा किसान की आय बढाने के लिए फसल विकल्प चुनने में सक्षम बनाना है।

पानी के अति-दोहन के मूल कारणः

  • अधिक पानी की मांग वाले धान-गेहूं के फसल चक्र की निंरतर खेती।
  • वर्षिक वर्षा से होने वाले पुनर्भरण से अधिक भू-जल का दोहन।
  • धान और गेहूं की फसलो में सिंचाई विधि से पानी का अधिक प्रयोग व बर्बादी।

‘योजना का उददेशय प्रकृति, मिट्टी और पानी का संरक्षण करना तथा टिकाऊ खेती को बढावा देना है‘

योजना के उददेशयः

  • हरियाणा में अधिक पानी की मांग वाली फसलो के क्षेत्र को कम करना।
  • स्थायी खेती के लिए वैकल्पिक फसलो को बढावा देना तथा नवीनतम तकनीको की प्रेरणा देना।
  • संसाधनों के संरक्षण को बढावा देना।
  • भू-जल स्तर को बनाए रखना।
  • धान-गेहूं चक्र के कुप्रभाव से मृदा स्वास्थ्य को बचाना तथा सुक्ष्म तत्वों का सन्तुलन मिट्टी में बनाए रखना।
  • धान-गेहूं चक्र की खेती से हटाकर किसान को अधिक लाभ देने वाली फसलो का विकल्प देने के लिए।

योजना के तहत प्रोत्साहन

  • इस योजना के तहत जिस किसान ने अपनी कुल जमीन के 50 प्रतिशत या उससे अधिक क्षेत्र पर धान के बजाय मक्का/ कपास/बाजरा / दलहन / सब्जीयां इत्यादि फसल उगाई है तो उसको 7,000/- रूपये प्रति एकड़ की दर से राशि प्रदान की जाएगी। परन्तु यह राशि उन्ही किसानो को ही दी जाएगी जिन्होने गतवर्ष (खरीफ 2019-20) के धान के क्षेत्रफल में से 50 प्रतिशत या उससे अधिक क्षेत्र में फसल विविधीकरण अपनाया है।
  • उपरोक्त राशि 7,000/- रूपये प्रति एकड़ के अतिरिक्त जिन किसानो ने धान के बजाय फलदार पौधो तथा सब्जीयों की खेती से फसल विविधीकरण अपनाया है उनको बागवानी विभाग द्वारा चालित परियोजनाओं के प्रावधान के अनुसार अनुदान राशि अलग से दी जाएगी।
  • जिन खण्डों का भू-जल स्तर 35 मीटर अथवा उससे अधिक गहराई पर है तथा पंचायत भूमि पर धान के अतिरिक्त मक्का/ कपास/बाजरा / दलहन / सब्जीयां फसल उगाई है तो 7,000/- रूपये प्रति एकड़ की दर से राशि ग्राम पंचायत को दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत अपनाई गई फसल मक्का / बाजरा / दलहन के उत्पादन को सरकार द्वारा नयुन्तम समर्थन मुल्य पर खरीदा जाएगा।
  • मक्का खरीद के दौरान मण्डीयों में मक्का सुखाने के लिए मशीने लगाई जाएगीं ताकि किसानों को पर्याप्त नमी के आधार पर उचित मुल्य मिल सके।
  • मक्का की मशीनों द्वारा बिजाई करने हेतु लक्षित खण्डों में किसानो को मक्का बिजाई मशीन पर 40 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा।
  • फसल विविधीकरण के अंतर्गत अपनाई गई फसल की बीमा राशि / किसान के हिस्से की राशि को सरकार द्वारा दिया जाएगा।

Agriculture and Farmers Welfare Department

Krishi Bhawan, Sector 21, Panchkula
E-mail: agriharyana2009[at]gmail[dot]com, psfcagrihry[at]gmail[dot]com
Tel.: 0172-2571553, 2571544
Fax:0172-2563242
Kisan Call Centre-18001801551

 

 

https://t.me/s/webaskit

Was this helpful?

0 / 0

Leave a Reply 2

Your email address will not be published. Required fields are marked *


हरियाणा मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना (MMPSY) | परिवार समृद्धि योजना के लिए पंजीकरण - All Sarkari Yojna

हरियाणा मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना (MMPSY) | परिवार समृद्धि योजना के लिए पंजीकरण - All Sarkari Yojna

[…]  मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है | O… […]

Government e-marketplace क्या है | लाभ - Web Ask It

Government e-marketplace क्या है | लाभ - Web Ask It

[…] मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है | Onl… […]